Breaking News

UP: ये पार्टी खुद को मुस्लिमों की हितैषी बताने में लगी हैं..। संगठन से प्रत्याशी तक प्रदान की गई तवज्जो

 

मुस्लिम वोट बैंक साधने के लिए बहुजन समाज पार्टी सारे जतन कर रही है। प्रत्याशियों के चयन से लेकर मुस्लिम वोटरों को लुभाने के लिए बसपा सरकार में लाई गईं अल्पसंख्यक कल्याण की योजनाओं का जमकर प्रचार किया ज रहा है। पार्टी के नेशनल कोऑर्डिनेटर आकाश आनंद की टीम दिल्ली कार्यालय में इस प्रचार की कमान संभाले हुए हैं।

पार्टी सूत्रों के अनुसार यूपी में बदलते सियासी समीकरणों को देखते हुए बसपा ने मुस्लिम प्रत्याशियों के बाद अब मतदाताओं पर भी फोकस करना शुरू कर दिया है। चुनाव को लेकर सोशल मीडिया पर बसपा सरकार में अल्पसंख्यकों के हित में किए गए उल्लेखनीय कार्यों का बखान किया जा रहा है। जल्द होने वाली मायावती और आकाश आनंद की रैलियों में भी इसका प्रचार करने की योजना बनाई गई है।

प्रत्याशी चयन में भी प्राथमिकता

 

बसपा के अब तक अधिकृत रूप से घोषित 37 प्रत्याशियों में से 9 मुस्लिम हैं। पार्टी ने सहारनपुर में माजिद अली, मुरादाबाद में मोहम्मद इरफान सैनी, रामपुर में जीशान खां, संभल में शौलत अली, अमरोहा में मुजाहिद हुसैन, आंवला में आबिद अली, पीलीभीत में अनीस अहमद खां उर्फ फूलबाबू, लखनऊ में सरवर मलिक और कन्नौज से इमरान बिन जफर को प्रत्याशी बनाया है।

पड़ोसी राज्य उत्तराखंड में बसपा ने हरिद्वार और नैनीताल में मुस्लिम प्रत्याशी उतारे हैं। हरिद्वार के प्रत्याशी जमील अहमद कासमी वर्ष 2012 में मुजफ्फरनगर की मीरापुर सीट से बसपा से विधायक बने थे। वहीं, नैनीताल-उधमसिंहनगर सीट से अख्तर अली को टिकट दिया गया है। उल्लेखनीय है कि दो वर्ष पूर्व प्रदेश में हुए नगर निकाय चुनाव में बसपा ने मेयर पद के लिए 11 मुस्लिम प्रत्याशी मैदान में उतारे थे।

 

About TSS-Admin

Check Also

बोर्ड परीक्षा में सी.एम.एस. कैम्ब्रिज का शानदार प्रदर्शन

लखनऊ, 24 मई। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर द्वितीय कैम्पस के कैम्ब्रिज सेक्शन के मेधावी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *